Saturday, June 26, 2010

मम्मी, पापा, बड़े पापा और मैं :-)

बहुत दिनों बाद पापा से मुलाकात हुई मैं बहुत खुश था। हम सब मिलकर दादा दादी के पास गए थे पर गर्मी के कारण मुझे बुखार आ गया था। अभी मैं ठीक हूँ एक साल का हो गया हूँ मुझे कुछ भी खाना अच्छा नहीं लगता बस दूध ही पीता हूँ वज़न नहीं बढ़ रहा है मेरा!...चल भी नहीं पाता हूँ ....बोल भी नहीं पाता हूँ...बस अपनी भावनाओं से सबको अपनी बात समझाता हूँ। सब मुझे बहुत ही प्यार करते हैं। मेरी तबियत में धीरे धीरे सुधार हो रहा है अब सब ईश्वर के ऊपर है। मुझे ईश्वर पर पूरा भरोसा है कि उन्होंने मेरे लिए बहुत ही अच्छा कार्य सोच रखा होगा।
पापा और मैं मम्मी और मैं
बड़े पापा, पापा और आदित्य
बड़े पापा, पापा और आदित्य बस दूध ही पीता हूँ

मेरे पापा डेल्ही चले गए उनका ट्रान्सफर होने वाला है इस बार मैं भी जाऊंगा पापा के साथ और उनके साथ रहूँगा हमेशा हमेशा के लिए :)

5 comments:

काजल कुमार Kajal Kumar said...

कोई बात नहीं ... बस एक बार भागना-दौड़ना शुरू कर दोगे तो सब ठीक होने लगेगा :)

रावेंद्रकुमार रवि said...

अरे,
पहले बताया होता,
तो अब तक हम सबने मिलकर ठीक कर लिया होता!
--
हमारी प्रार्थनाएँ आपको बहुत जल्दी ठीक करनेवाली हैं!

उन्मुक्त said...

पापा के साथ रहने का मजा ही अलग है।

दीनदयाल शर्मा said...

I Love you too Aaditya.....& your Lovely Switi...

Akshita (Pakhi) said...

आदित्य, आप जल्दी से स्वस्थ हो जाओ..यही दुआ है.


***************************
'पाखी की दुनिया' में इस बार 'कीचड़ फेंकने वाले ज्वालामुखी' !