Saturday, March 6, 2010

"सूरज भईया, सूरज भईया"



अनुभव भैया आपने एक कविता और एक चित्र साथ लाया है...

हम सुनना चाहते हैं और देखना भी ,सुनाइए ना!

.


सूरज भईया, सूरज भईया,

क्या मम्मी ने डांटा है,

गाल तुम्हारे लाल हो गए लगता खाया भाटा है.....

.

.


हा हा हा .......

भईया आप जब भी आते हो हँसाते हो हमें....

आप हो भी बहुत प्यारे...

आप सदा खुश रहे...

आभार

No comments:

Post a Comment

हम आपके सुझावों और संदेशों का तहे दिल से स्वागत करते हैं कृपया हम बच्चों का मार्गदर्शन और उत्साहवर्धन करें . आप सभी का हमारे ब्लॉग पर आने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद .